हिंदी वर्णमाला , स्वर , व्यंजन , भेद , उदाहरण - हिंदी व्याकरण

हिंदी भाषा का जन्म संस्कृत भाषा से हुआ है , हिंदी भाषा को  नगरी या देवनागरी भाषा के नाम से भी जाना जाता है   भाषा संस्कृत के भाषु शब्द से उत्पत्ति हुई है जिसका अर्थ होता है बोलना, हिंदी भाषा में भाषा  की   सबसे छोटी इकाई वर्ण होती है
वर्ण : वर्ण की सबसे छोटी इकाई धव्नि होती है जिसका लिखित रूप अक्षर  या वर्ण होता  है , यह एक अनेकार्थी शब्द है जिसका अर्थ होता है अक्षर , जैसे - रंग ,भेद, जाति, खाना, उठना, इत्यादि     

अक्षर : हिंदी भाषा की वह सबसे छोटी इकाई जिसका खंडन न किया जा सके अक्षर कहलाता है
वर्ण माला : वर्णों के व्यवस्थित समूह को वर्णमाला कहते हैं 
उच्चारण के आधार पर हिंदी में ४५ वर्ण होते हैं जिनमें 10 स्वर तथा ३५ व्यंजन होते हैं और लेखन के आधार पर 52 वर्ण  होते हैं जिनमें 13 स्वर , 35 व्यंजन तथा 4 संयुक्त व्यंजन होते हैं

स्वर : हिंदी भाषा में स्वतंत्र रूप से बोले जाने वाला "ध्वनि चिन्ह" जिसका उच्चारण स्वतंत्र हो स्वर कहलाता है

व्यंजन : हिंदी भाषा में स्वरों की सहायता से बोले जाने वाले वर्ण व्यंजन कहलाते हैं , परम्परागत रूप से व्यंजनों की संख्या ३३ मानी गयी है परन्तु द्विगुण/ उलक्षिप्त व्यंजनों के मिलने सेइनकी संख्या ३५ हो जाती है



Dear Readers / मित्रों

कृपया इस पोस्ट/टॉपिक को Facebook, Twiiter और WhatsApp पर अपने दोस्तों/मित्रों के साथ जरुर शेयर करें और एक शेयर से अपने दोस्तों/मित्रों को अच्छी जानकारी दें!


0 Comments:

Post a Comment