संख्या पद्धति (Number System) ➩ संख्या के प्रकार (Types of Number)

मुख्य बिंदु (IMPORTANT POINTS) 

संख्या के प्रकार  (Types of Number)

1. प्राकृत संख्या (Natural Number) गिनती की संख्या को प्राकृत संख्या कहते है . जैसे 1, 2, 3, ----- इत्यादि



2.
पूर्ण संख्या (Whole Number) :- प्राकृत संख्या में 0 सम्मिलित करने पर पूर्ण संख्या का समूह बनता है . जैसे 0, 1, 2, ..




3.
पूर्णांक संख्या (Integer) :- प्राकृत संख्या में 0 और ऋण संख्या सम्मिलित करने पर पूर्णांक संख्या प्राप्त होती है . --- जैसे -3, -2 , -1 , 0, 1, 2, 3,---



4.
सम संख्या (Even Number) :- 2 से विभाजित संख्या . जैसे 0, 2, 4----


5.
विषम संख्या (Odd Number):- ऐसी संख्या जो 2 से पूर्ण रूप से बिभाजित नहीं हो. जैसे 1, 3, 5, 7---


6.
भाज्य संख्या (Factorial Number) :- ऐसी प्राकृत संख्या जो 1 या स्वयं के अतिरिक्त दूसरी संख्याओ से विभाजित हो जाये. जैसे 4, 6, 8, 9,10,---

7. अभाज्य संख्या(Prime Number) :- 1 से बड़ी ऐसी प्राकृत संख्या जो 1 या स्वयं के अतिरिक्त किसी अन्य संख्या से विभाजित न हो. जैसे 2, 3, 5, 7, 11, 13, 17, 19, 23, 29, 31, 37, 41, 43, 47, 53, 59, 61, 67, 71, 73, 79, आदि ।

  •   प्रथम अभाज्य संख्या 2 है।
  •   केवल प्रथम अभाज्य सम है।
  •   प्रथम अभाज्य संख्या के अलावा अन्य सभी अभाज्य संख्या विषम है।
  •   संख्या एक न तो भाज्य है न ही अभाज्य है।

8.
परिमेय संख्या (Rational Number) :- जो संख्या p/q के रूप में हो जहाँ p और q दो पूर्णांक है तथा q ≠0 परिमेय संख्या कहलाती है . जैसे ¾ , 17/49 , 0, 5, ---

9.
अपरिमेय संख्या (Irrational Number):- जो संख्या p/q के रूप में न हो .जहाँ p और q पूर्णांक हैं और q ≠0 जैसे √5, √8, √15, √7/4, ά, β. γ, δ, 10, 15 आदि

  •   अपरिमेय संख्याऐं कभी भी पूर्ण वर्ग नहीं होती।
  •   दो परिमेय संख्याओं का योग = परिमेय संख्या होगा ।
  •   दो परिमेय संख्याओं की गुणा = परिमेय संख्या होगी ।
  •   एक परिमेय एवं एक अपरिमेय का योग = अपरिमेय संख्या होगी ।
  •   एक परिमेय एवं एक अपरिमेय की गुणा = अपरिमेय संख्या होगी ।

 10. सह अभाज्य संख्याजैसे:  3, 8 5, 16 7, 20 आदि जोड़े सहअभाज्य है। 11. प्राकृत संख्या (Natural Number): परिमेय संख्याएं तथा अपरिमेय संख्याएँ मिलाकर  जो संखया प्राप्त होती है  उसे वास्तविक संखया कहते हैं ।  वास्तविक संखया या तो परिमेय होती है है या अपरिमेय ।  
आम गणना में प्रयोग होने वाली सभी संख्यायें वास्तविक संख्यायें कहलाती हैं
इन्हें  "वास्तविक संख्या" कहा जाता है क्योंकि ये  काल्पनिक संख्या नहीं हैं

जैसे: 1, 15.82, −0.1, 3/4,  



Dear Readers / मित्रों

कृपया इस पोस्ट/टॉपिक को Facebook, Twiiter और WhatsApp पर अपने दोस्तों/मित्रों के साथ जरुर शेयर करें और एक शेयर से अपने दोस्तों/मित्रों को अच्छी जानकारी दें!


4 comments:

  1. Hallo
    5/7 and 9/11 ke mdya(bichme) me aprimey sankhya kaise gayat karte have.bistar me bataye

    ReplyDelete
  2. All numbers system in serial vise publish kre...plz jaldi s jaldi

    ReplyDelete